उत्तराखंड के चार धाम, पंचबद्री, पंचकेदार, पंचप्रयाग

 उत्तराखंड राज्य के चार धाम - 



1. गंगोत्री - 

समुद्र तल से 3048 मी0 की ऊंचाई पर स्थित है। यह उत्तरकाशी जनपद में है जहां भागीरथी नदी का उद्गम स्थान है। 



2. यमुनोत्री - 

यह समुद्र तल से 3235 मी0 की ऊंचाई पर स्थित है। यह भी उत्तरकाशी जनपद में स्थित है। यह यमुना नदी का उद्गम स्थल है।



3. बद्रीनाथ - 

यह समुद्र तल से 3133 मी0 की ऊंचाई पर स्थित है। यह चमोली जनपद में अलकनंदा के तट पर स्थित है। यह भगवान विष्णु का धाम है। शीतकाल में यह जोशीमठ के नरसिंह मंदिर में स्थापित किया जाता है।




4. केदारनाथ - 

यह समुद्र तल से 3584 मी0 की ऊंचाई पर स्थित है। यह रुद्रप्रयाग में मंदाकिनी नदी के तट पर स्थित है। जो शीतकाल में उखीमठ के ओम्कारेश्वर मंदिर में स्थापित कर दिया जाता है। यहां भगवान शिव की पूजा होती है।




उत्तराखंड के पंच केदार - 


1. केदारनाथ - रुद्रप्रयाग में मंदाकिनी नदी के तट पर स्थित है। यहां शिव के पिछले भाग की पूजा की जाती है।






2. मदमहेश्वर नाथ - यह रुद्रप्रयाग जनपद में स्थित है। यहां भगवान शिव के नाभि की पूजा की जाती है।



3. तुंगनाथ -  यह भी रुद्रप्रयाग जनपद में स्थित है। यहां भगवान शिव की भुजा की पूजा की जाती है। 



4. रुद्रनाथ - यह चमोली जनपद में है। यहां भगवान शिव के मुख की पूजा की जाती है।



5. कल्पेश्वर - यह चमोली जनपद में स्थित है। यहां भगवान शिव के केशों की पूजा की जाती है।




उत्तराखंड के पंच बद्री


1. बद्रीनाथ - इसे बद्रीविशाल के नाम से भी जाना जाता है। यह चमोली जनपद में स्थित है। यहां भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। जिसके कपट बसंत पंचमी को खुलते हैं। 




2. आदिबद्री - यह चमोली जनपद के कर्णप्रयाग में स्थित है।


3. भविष्यबद्री - यह जोशीमठ में स्थित है।


4. वृद्धबदरी - यह जोशीमठ में स्थित है जहां इन्हें प्रथम बदरी भी कहते हैं। 


5. योगध्यान बदरी - 

यह चमोली के पांडुकेश्वर नामक जगह पर स्थित है।



उत्तराखंड के पंच प्रयाग 



1. विष्णुप्रयाग - यह अलकनंदा एवं विष्णुगंगा नदी के संगम पर स्थित है।



2. नंदप्रयाग - यह अलकनंदा एवं नन्दाकिनी नदी के संगम पर स्थित है।



3. कर्णप्रयाग - यह अलकनंदा एवं पिंडर नदी के संगम पर स्थित है।



4. रुद्रप्रयाग - यह अलकनंदा एवं मंदाकिनी नदी के संगम पर स्थित है।



5. देवप्रयाग - यह अलकनंदा एवं भागीरथी नदी के तट पर स्थित है।








अगर आपके पास भी है कोई रोचक जानकारी या अपने कोई लेख, कहानी या कविता , जिसे आप dcpant.com से अपने नाम से प्रकाशित करवाना चाहते हैं तो हमें हमारी email id पर mail कर दें। हिंदी अथवा अंग्रेजी किसी भी भाषा में लेख भेज सकते हैं।

mr.pantdc@rediffmail.com


No comments:

Powered by Blogger.