NPS : सरकारी कर्मचारियों के लिए वरदान या अभिशाप

आज चर्चा कर लेते हैं NPS की।
new pension scheme , जिसे सरकार कर्मचारियों के लिए बहुत अच्छा बताती है परंतु इसके भविष्य किसी को ज्ञात नहीं है। आज मैं आपको एक सरल सी गणना करके समझाता हूँ कि NPS में आखिर होता क्या है उसके बाद आप खुद बताइयेगा कि यह कर्मचारियों के लिए वरदान है या अभिशाप ।

चलिए बात करते हैं एक सरकारी कर्मचारी की जिसकी नौकरी माना 32 वर्ष की आयु में लगती है, तो उसका NPS के लिए पंजीकरण होता है और चलिए हम यहां पर ये मान लेते हैं कि 1 वर्ष पश्चात उसका NPS में योगदान काटना शुरू हो गया है। 
हम उस कर्मचारी के पूरे जीवन काल मे 6000 रु का औसत लेकर चलते हैं कि इतना उसका NPS कट रहा है तो कुल उसका कितना जमा हुआ उसकी गणना करते हैं-
6000×12माह ×28वर्ष= 2016000 (बीस लाख सौलह हजार रु) 
अब माना इसमें 14% सरकार भी अंशदान देती है तो सरकार का अंशदान बनता है - 
2822400 ( अठाईस लाख बाईस हजार चार सौ रु ) 

दोनों का योग होता है -
2016000+2822400= 4838400 रु


इस राशि पर अपने आयकर भी दिया है तो उसका एक मोटा से अनुमान केवल 10% हम लगा लेते हैं आयकर कटौती के पश्चात जो राशि बचती है वो है अब- 
4354560 रु

माना कि इसमें सेवानिवृत्त होते समय 12 % का लाभ मिलता है जैसा कि सरकार दावा करती है तो कुल जमा राशि बन गयी अब- 
4877108 रु

अब अपने इस राशि का 60% या 40% कितना निकलना है इसका चुनाव करना है। माना मुझे जरूरत ज्यादा है तो मैं 60% निकाल लेता हूँ तो मेरी निकासी हो गयी मेरे कहते से कुल - 
2926265 रु 
ध्यान रखिये इस राशि पर आपको कर देना हैं। यहां पर भी अगर केवल 10% आयकर लगाएं जबकि लगेगा ज्यादा तो अब बची हुई राशि हो गयी जो शुद्ध रूप में हमे प्राप्त हुई वो- 
2633638 रु

अपने जितना जमा किया था उससे भी कम राशि आपको वापस मिली। 

अब चलिए पेंशन की गणना करते हैं आसान तरीके से।

शेष राशि बची 40% वो होती है अब- 
1950843 रु

इस पर सामान्य रूप से पेंशन की गणना इस प्रकार होगी कि आपको 100 वर्ष की आयु तक पेंशन देय है वो इसी से मिलेगी 60 वर्ष में आप सेवानिवृत्त हुए हैं तो 40 वर्षों की पेंशन की गणना
1950843÷40= 48771 रु वार्षिक पेंशन ये आपको मिलेगी। 

मासिक पेंशन की गणना कीजिये 
48771÷12= 4064 रु


अब खुद सोचिए कि 30 साल बाद क्या 4064 रु पेंशन आपके लिए पर्याप्त है। 
अगले अंक में इसकी तुलना GPF के साथ पुरानी पेंशन से की जाएगी तब तक आप हमसे जुड़े रहिये और हमें subscribe कीजिये । सबसे ऊपर सब्सक्राइब का ऑप्शन है।



No comments:

Powered by Blogger.